Conferences

शोधगोष्ठी (Conferences)

1-वैदिक अग्निहोत्र और ब्रह्माण्ड नाम से राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित की गयी।

2-श्रद्धानन्द व्याख्यान माला के अन्तर्गत 3 लघु शोध संगोष्ठी आयोजित की गईं।

विभाग के प्राध्यापक विभिन्न शोधगोष्ठियों में भाग लेते रहते हैं और उनमें अपनी शोधप्रज्ञा को उपस्थापित करते रहे हैं, उनका विवरण निम्न है-

1. प्रो. ज्ञान प्रकाश शास्त्री
शोधसंगोष्ठियों का विवरण

S.N. Title of the paper Name of Conference Name of Institution and place Date
National      
1. वेद और विज्ञान इण्डियन इंस्टीटय़ूट ऑफ एडवांस स्टडीज शिमला इण्डियन इंस्टीटय़ूट ऑफ एडवांस स्टडीज शिमला 03.01.2004 से 05.01.2004
2. वैदिक अग्निहोत्र और ब्रह्माण्ड वैदिक अग्निहोत्र और ब्रह्माण्ड वैदिक अग्निहोत्र और ब्रह्माण्ड 12.03.2004 से 14.03.2004
3. पुराणसाहित्य में अदिति आख्यान 42वीं ऑल इण्डिया ऑरियेण्टल काप्रेंस 42वीं ऑल इण्डिया ऑरियेण्टल काप्रेंस 04.11.2004 से 06.11.2004
4. स्मृतियों में नारीदूषण अपराध पर दण्डव्यवस्था उत्तरांचल संस्कृत अकादमी उत्तरांचल संस्कृत अकादमी 16-03-05 से दि0 17-03-05
5. ब्रह्माण्ड का मूल अग्नि पं0 बैजनाथ शर्मा प्राच्य विद्या संस्थान पं0 बैजनाथ शर्मा प्राच्य विद्या संस्थान दि0-28.03.2005 से दि0-30.03.2005
6. वाल्मीकि-रामायण में अश्वमेध यज्ञ का स्वरूप वाल्मीकि के जीवन और कृतित्व पंजाब विश्वविद्यालय चण्डीगढ़ दि013.10.2005 से दि015.10.2005
7. विश्वशान्ति का वैदिक दर्शन भूमण्डलीकरण वार्ष्णेय कालेज, अलीगढ़ 8-9 फरवरी 2009
8. बौद्धधर्म में शान्ति के उपाय विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्ली द्वारा आयोजित राष्ट्रिय-शोध-संगोष्ठी बौद्ध अध्ययन केन्द्र गुरुकुल महाविद्यालय, ज्वालापुर, हरिद्वार 27-28 मार्च 2010
9. अर्जुन-विषादयोग का सामाजिक पक्ष अर्जुन-विषाद के सामाजिक निहितार्थ कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के इन्स्टीटय़ूट ऑफ संस्कृत एण्ड इण्डोलोजिकल स्टडीज 15.12.2010 से 16.12.2010
10. अथर्ववेदीय स्वप्नविज्ञान महर्षि सान्दीपनि राष्ट्रीय वेदविद्या प्रतिष्ठान उज्जैन एवं राजस्थान संस्कृत अकादमी, जयपुर के सौजन्य से संस्कृत-विभाग, महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय अजमेर, महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय अजमेर, 19, 20 फरवरी 2011
11. योग में प्रतिपादित अध्ययन की विधियाँ Teaching Methods in Yoga मानव चेतना और योगविज्ञान विभाग, गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार 12-13 मार्च 2011
12. यास्कमते दैव्यप्रकोपः तस्य कारणं समाधानञ्च संस्कृत वाङ्मये दैव्यापदः तन्निरोधोपायाश्च उत्तराञ्चल संस्कृत अकादमी,हरिद्वारम् 27-28-29मई2011
13. गीता और उसके समर्पण भाष्य में देवयज्ञ का स्वरूप(वैदिक साहित्य के परिप्रेक्ष्य में) गीतायाः वैदिकत्वं स्वामी समर्पणानन्दश्च(राष्ट्रिया संगोष्ठी) स्वामि-समर्पणानन्द वैदिक शोधसंस्थानम्
गुरुकुल प्रभात आश्रम मेरठ
09अगस्त2011
14. वैदिक संहिताओं में कृषि के उपकरण और उनके प्रयोग राष्ट्रिय संस्कृत संगोष्ठी गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय,हरिद्वार एवं गुजरात राज्य यूनिवर्सिटी एवं कालेज संस्कृत अध्यापक मण्डल,अहमदाबाद 3-4-5नवम्बर2011
15. महर्षि दयानन्द का मोक्षविषयक चिन्तन महर्षिदयानन्दस्य संस्कृतेऽवदानम् संस्कृत विभाग,गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय,हरिद्वार 21मार्च2012
16. वेद प्रतिपादित सकारात्मक चिन्तन और उसकी प्रासंगिकता सकारात्मक चिन्तन का दार्शनिक स्वरूप एवं उसकी वर्तमान सन्दर्भ में प्रासंगिकता दर्शनशास्त्र विभाग,गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय,हरिद्वार 26मार्च2012
17. संस्कृति का प्रथम आलेख समाज, संस्कृति और साहित्य बैकुण्ठी देवी कन्या महाविद्यालय, आगरा फरवरी 2013
18. मन्त्रचिकित्सा योग एवं वैकल्पिक चिकित्सा मानवचेतना एवं योगविभाग
गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार
26 मार्च 2014 से 01 अप्रैल 2014 तक
19. विश्वशान्ति का वैदिक दर्शन वैश्विक ज्ञान-विज्ञान के परिप्रेक्ष्य में वेदों की प्रासंगिकता वेदविभाग गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार एवं महर्षि सान्दीपनि राष्ट्रिय वेदविद्या प्रतिष्ठान, उज्जैन 13-15 मार्च 2015
20 वैदिक-जीवन-शैली Yogic management of life style disorder मानवचेतना एवं योगविज्ञान विभाग गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार 30-31 मार्च 2015

INTERNATIONAL CONFERENCES-

1. सांख्यदर्शन की वेदमूलकता वेदानां विश्वस्मै योगदानम् गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार 27-30 जनवरी 2005
2. अथर्ववेद में यज्ञ का स्वरूप विश्ववेदसम्मेलनम् गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार 20-22 नवम्बर 2009
3. संस्कृति का प्रथम आलेख समाज, संस्कृति और साहित्य बैकुण्ठी देवी कन्या महाविद्यालय, आगरा फरवरी 2013
4. अथर्ववेदीय पर्यावरण विज्ञान World Congress for man and Nature पर्यावरण विज्ञान विभाग, गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार 11-12-13नवम्बर2011
5. शुनःशेप आख्यान के निहितार्थ वेदविद्यासम्मेलन राष्ट्रिय वेदविद्याप्रतिष्ठान, उज्जैन (म.प्र.) 4-7 नवम्बर 2012

प्रो. सत्यदेव निगमालंकार

क्रम. सं0 शोधपत्र शीर्षक शोध-सम्मेलन शीर्षक दिनांक एवं आयोजक समिति सम्मेलन का स्तर
1. वेद संहिताओं में अष्टांगयोग की ध्यान-प्रक्रिया नयी शताब्दी में योग और ध्यान पर कार्यशाला फरवरी 10-13, 2000
योग विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार,
राष्ट्रिय
2. वेदों में योग के प्रभाव संचेतना और योग की स्थिति मार्च 21-22, 2001
योग विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार
राष्ट्रिय
3.

संस्कृत काव्यशास्त्र का महत्त्व

Indian Sanskrit Poetic recent trends & Future Directions. मार्च 21-23, 2003
अंग्रेजी विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार
राष्ट्रिय
4. ऋग्वेद में यज धातु का अर्थानुसन्धान, वैदिक अग्निहोत्र और ब्रह्माण्ड 12-14 मार्च 2004,
श्रद्धानन्द वैदिक शोध संस्थान, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार
राष्ट्रिय
5. महर्षि दयानन्दकृत वेदभाष्य के परिप्रेक्ष्य में न्याय, दण्ड एवं प्रशासन व्यवस्था का स्वरूप,

संस्कृतवाङ्मयेऽभिव्यक्तानां न्यायदण्डप्रशासन व्यवस्थितिः, साम्प्रतमेतेषां प्रासंगिकत्वञ्च

16-17 मार्च 2005,
उत्तराञ्चल संस्कृत अकादमी, हरिद्वार
राष्ट्रिय
6. ऋग्वेद में प्राप्त कतिपय वनस्पतियाँ तथा उनके उपयोग। Medicinal Plants: Conservation, Cultivation & Utilization. 9-11 मार्च 2006
जन्तु एवं पर्यावरण विज्ञान विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार
राष्ट्रिय
7. महर्षि दयानन्द सरस्वती के वेदभाष्य में शिल्पविद्या विषयक अवधारणा वेदः वाल्मीकिरामायणञ्च 3, 4, 5 मार्च 2006,
संस्कृत विभाग, गु0कां0वि0वि0 हरिद्वार
राष्ट्रिय
8. संस्कृत काव्य में कविकर्म Indian Sanskrit Poetics: Its Application and Issues 16-18 फरवरी 2008, अंग्रेजी विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार राष्ट्रिय
9. वेदों में क्रीड़ा तथा मनोरञ्जन के विविध आयाम, Professional & Scientific Approach of Physical Education & Sports in 21th Century. 1-2 फरवरी 2008,
शारीरिक शिक्षा एवं खेलकूद विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार,
राष्ट्रिय
10. महर्षिदयानन्दीये वेदभाष्ये विमानविद्या अखिलभारतीय संस्कृत शोध सम्मेलन, 28 फरवरी 2009
उत्तराञ्चल-संस्कृत-अकादमी, हरिद्वार
राष्ट्रिय
11. वेदेषु शल्यचिकित्सा अखिल भारतीय संस्कृत शोध सम्मेलन, 11-13 मार्च 2010,
उत्तराञ्चल संस्कृत अकादमी, हरिद्वार
राष्ट्रिय
12. बौद्ध दर्शन के अष्टांग सत्य की वर्त्तमान में प्रासंगिकता वर्त्तमान में वैश्विक शान्ति के लिये बौद्ध धर्म के सिद्धान्तों की प्रासंगिकता 27, 28 मार्च 2010,
गुरुकुल महाविद्यालय, ज्वालापुर, हरिद्वार,
राष्ट्रिय
13. यजुर्वेद में प्रश्नोत्तर क्रीड़ा तथा उसका महत्त्व, Modern trends & Directions of Physical Education & Sports. 9-11 जनवरी 2011
दर्शनविभाग, गु0कां0वि0वि0, हरिद्वार,
राष्ट्रिय
14. वेदों का वर्त्तमान और भविष्य वेदों का वर्त्तमान और भविष्य 18 दिसम्बर 2010
वेद विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार
राष्ट्रिय
15. दयानन्दीय वैदिकशिक्षादर्शनम् तन्महत्त्वञ्च 84th Indian Philoso-phical Congress. 9-11 जनवरी 2011
दर्शनविभाग, गु0कां0वि0वि0, हरिद्वार,
राष्ट्रिय
16. वेदेषु अतिवृष्टेरनावृष्टेश्च निवारकाः मेघाः संस्कृतवाङ्मये दैव्यापदाः तन्ननिरोधोपायाश्च 27-29 मई 2011
उत्तराञ्चल संस्कृत अकादमी हरिद्वारम्,
राष्ट्रिय
17. दयानन्दीय वैदिक शिक्षादर्शनं तन्महत्त्वञ्च इण्डियन फिलोसोफिकल कांग्रेस के 84वें अधिवेशन दर्शन विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार 2011 राष्ट्रिय
18. वैदिक अश्वविज्ञान IAEAS-2011 एफ0ई0टी0, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार राष्ट्रिय
19. सकारात्मक चिन्तन का दार्शनिक स्वरूप एवं उसकी वर्तमान सन्दर्भ में प्रासंगिकता सकारात्मक चिन्तन का दार्शनिक स्वरूप एवं उसकी वर्तमान सन्दर्भ में प्रासंगिकता दर्शनशास्त्र विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय 2012 राष्ट्रिय
20. वेदों में खेलकूद का साधन अश्व गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय एवं गुजरात राज्य यूनिवर्सिटी एवं कॉलेज संस्कृत अध्यापकमण्डल द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय एवं गुजरात राज्य यूनिवर्सिटी एवं कॉलेज संस्कृत अध्यापकमण्डल द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित राष्ट्रिय
21. महर्षिदयानन्दस्य संस्कृते अवदानम् महर्षिदयानन्दस्य संस्कृते अवदानम् संस्कृतविभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय 2012 राष्ट्रिय
अन्ताराष्ट्रिय सम्मेलनों में सहभागिता
क्रम. सं0 शोधपत्र शीर्षक शोध-सम्मेलन शीर्षक दिनांक एवं आयोजक समिति सम्मेलन का स्तर
1. निघण्टु-पठित ‘ममसत्यम्’ पद का अर्थविचार वेदानां विश्वस्मै योगदानम् 27-30 जनवरी 2005,
वेद विभाग, गु0कां0वि0 विश्वविद्यालय, हरिद्वार,
अन्ताराष्ट्रिय
2. ऋग्वेद में प्राप्त योगदर्शन का यमाङ्ग Yoga & Health Awareness in modern Scenario, 23-25 मार्च 2007, मानवीय चेतना एवं यौगिक विज्ञान विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार अन्ताराष्ट्रिय
3. ऋग्वेद के वनस्पति पद का अर्थविचार अन्ताराष्ट्रिय वेद-वेदाङ्ग विद्वत्-सम्मेलन

7-11 नवम्बर 2007
गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार

अन्ताराष्ट्रिय
4. अथर्ववेद में प्राप्त वनस्पतियां तथा उनके उपयोग विश्व-वेद-सम्मेलन, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार 20, 21, 22 नवम्बर 2009 अन्ताराष्ट्रिय
5. वेद और पर्यावरण Biodiversity and Environmental Governance in Canada & India: Safeguarding Ecosystems for Human Welfare, 21-23 अक्टूबर 2010,
अंग्रेजी विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार
अन्ताराष्ट्रिय
6. वेदों में पर्यावरण चिन्तन फैकल्टी ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नालॉजी, फैकल्टी ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नालॉजी, गुरुकुल काङ्गड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार अन्ताराष्ट्रिय
7. स्वास्थ्य संरक्षण में वेद, आयुर्वेद एवं योगदर्शन की भूमिका शारीरिक शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित शारीरिक शिक्षा एवं खेल-कूद विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय अन्ताराष्ट्रिय
8. वेदों का वानस्पतिक चिन्तन एक विवेचन पर्यावरण विज्ञान विभाग द्वारा आयोजित पर्यावरण विज्ञान विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार अन्ताराष्ट्रिय

राष्ट्रिय सम्मेलनों में संयोजकत्व-

क्रम. सं0 संयोजक शोध-सम्मेलन शीर्षक दिनांक एवं आयोजक समिति सम्मेलन का स्तर
1. संयोजक नयी शताब्दी में योग और ध्यान पर कार्यशाला 10-13 फरवरी 2000गु0कां0वि0विश्वविद्यालय, हरिद्वार राष्ट्रिय
2. संयोजक संचेतना और योग की स्थिति 21-22 मार्च 2001योगविभाग, गु0कां0वि0विश्वविद्यालय, हरिद्वार राष्ट्रिय
3. संयोजक वेदः वाल्मीकि रामायणञ्च 03-05 मार्च 2006संस्कृतविभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार राष्ट्रिय

अन्ताराष्ट्रिय सम्मेलनों में अध्यक्षता /संयोजकत्व-

क्रम. सं0 संयोजक / अध्यक्ष शोध-सम्मेलन शीर्षक दिनांक एवं आयोजक समिति सम्मेलन का स्तर
1. अध्यक्ष Yoga & Health Awareness in modern Scenario, 23-25 मार्च 2007मानव चेतना एवं योग विज्ञान विभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार, अन्ताराष्ट्रिय
2. संयोजक विश्ववेदसम्मेलनम्, 20-22 नवम्बर 2009संस्कृतविभाग, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार, अन्ताराष्ट्रिय
3. अध्यक्षता वैश्विक ज्ञान-विज्ञान के परिप्रेक्ष्य में वेदों की प्रासंगिकता वेदविभाग गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार एवं महर्षि सान्दीपनि राष्ट्रिय वेदविद्या प्रतिष्ठान, उज्जैन 13-15 मार्च 2015 राष्ट्रिय
4. अध्यक्षता yogic management of life style disoreder मानवचेतना एवं योगविज्ञान विभाग गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार, 30-31 मार्च 2015 राष्ट्रिय
(Since - 2005)

Exclusive Online Partner IndiaResults.com