Courses

पाठ्यक्रम

वैदिक शोधसंस्थान विभाग मूलतः शोधमूलक है। इस विभाग में पी-एच.डी. के अतिरिक्त इसके माध्यम से बी.एस्सी. बी.पी.एड्. बी.बी.ए. बी.फार्मा के छात्रों में भारतीय धर्म, दर्शन और संस्कृति की छाप छोड़ने के लिये धर्म, दर्शन एवं संस्कृति नाम से पाठ्यक्रम चलाया जाता है। यह पाठ्यक्रम ही अन्य विश्वविद्यालयों के छात्रों से गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय के छात्रों से भिन्न करता है।

पाठ्यक्रम-विवरण
1
. पूर्व पी-एच.डी. पाठ्यक्रम
2. पी-एच.डी.
3. बी.एस्सी. बी.पी.एड्. बी.बी.ए. बी.फार्मा में धर्म, दर्शन एवं संस्कृति विषयक पाठ्यक्रम

पी-एच.डी. पूर्व (संस्कृत) पाठ्यक्रम

शोध-प्रविधि
प्रथम प्रश्नपत्र
लिखित परीक्षा=70 आन्तरिक मूल्यांकन = 30
पूर्णांक = 100

प्रथम यूनिट

  1. शोध की परिभाषा एवं शोध का उद्देश्य।
  2. शोध की उपयोगिता।
  3. शोध और आलोचना।
  4. शोध के अधिकारी।
  5. शोधनिर्देशक का चयन एवं शोधनिर्देशन के सिद्धान्त।
  6. साहित्य के क्षेत्र में शोध का स्वरूप।
  7. साहित्यिक शोध के प्रकार (तुलनात्मक, ऐतिहासिक, भाषावैज्ञानिक, वैज्ञानिक आदि पद्धतियाँ)।

द्वितीय यूनिट

  1. पूर्वकृतकार्य का सर्वेक्षण।
  2. शोधक्षेत्र एवं संभाव्य शोधविषय का चयन।
  3. शोधक्षेत्र का विभाजन एवं रूपरेखानिर्माण की पद्धति।
  4. शोध के प्राथमिक और अन्य स्रोतों की पहिचान।
  5. सामग्री संकलन एवं उसका रूपरेखा के अनुसार वर्गीकरण।
  6. संगृहीत सामग्री की उपयोगिता का निर्णय।
  7. उद्धरण एवं सन्दर्भ लिखने की विधि।
  8. परिशिष्ट एवं अनुक्रमणिकाएँ।
  9. शोधप्रबन्ध के दोष और उनका निराकरण।

तृतीय यूनिट

  1. प्राक्कथन।
  2. विषयसूची।
  3. शोधप्रबन्धलेखन एवं उसमें विश्लेषण विधि का उपयोग।
  4. संकेतसूची।
  5. उपसंहार।
  6. शोधसार।
  7. प्रथम आलेख एवं उसमें संशोधन, अन्तिम आलेख।
  8. सहायक सन्दर्भग्रन्थसूचीनिर्माण।
  9. शोधसामग्री उपलब्ध कराने वाले स्रोतों के प्रति आभार प्रदर्शन।

चतुर्थ यूनिट

  1. विंडो का सामान्य परिचय एवं उससे होने वाले प्रमुख कार्य।
  2. एक्सप्लोरर।
  3. माइक्रोसोप्ट के ऑफिस का सामान्य ज्ञान।
  4. फाइल बनाना एवं फोल्डर बनाना।
  5. पाद टिप्पणी डालने की विधि।
  6. फार्मेटिंग।

पञ्चम यूनिट

  1. शोध में इण्टरनेट का प्रयोग।
  2. इण्टरनेट से शोध सामग्री का संकलन।
  3. संस्कृत साहित्य का परिचय तथा साहित्य उपलब्ध कराने वाली कतिपय साइट्स के नाम व पते।
  4. माइक्रोसोप्ट ऑफिस की फाइल को पी.डी.एफ. बनाना।।
  5. पॉवर पॉइंट का सामान्य परिचय।



पी-एच.डी. पूर्व (संस्कृत) पाठय़क्रम
शोध-प्रविधि
द्वितीय प्रश्नपत्र
लिखित परीक्षा=70 आन्तरिक मूल्यांकन =30
पूर्णांक=100

प्रथम यूनिट

  1. संस्कृत हस्तलेखों का अध्ययन।
  2. प्रकाशित और अप्रकाशित ग्रन्थों का पाठनिर्धारण।
  3. पाण्डुलिपियों में विकृति के कारण, अध्ययन तथा संशोधन की विधि।
  4. संस्कृत में कोश के प्रकार और उनका शोध में उपयोग।
  5. संस्कृत साहित्य की प्रमुख शोधपत्रिकाओं का परिचय और उनका शोधकार्य में उपयोग।

द्वितीय यूनिट

  1. वैदिक संस्कृत के लेखनचिह्न।
  2. संस्कृत वर्णमाला और उसके चिह्न।
  3. अन्तर्राष्ट्रिय लेखनचिह्नों का परिचय।
  4. अनुसन्धान केन्द्रों एवं पुस्तकालयों का परिचय। (भण्डारकर ओरियेण्टल रिसर्च इंस्टीटय़ूट् पूना, विश्वेश्वरानन्द वैदिक शोधसंस्थान होशियारपुर, दयानन्द चेयर ऑफ वैदिक स्टडीज चण्डीगढ़, गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय हरिद्वार. ओरियेण्टल रिसर्च इंस्टीटय़ूट् तिरुपति, सेन्टर ऑफ एडवांस्ड स्टडीज इन संस्कृत पूना, वैदिक संशोधन मण्डल, पूना, ओरियेण्टल रिसर्च इंस्टीटय़ूट् मैसूर, गंगानाथ झा रिसर्च इंस्टीटय़ूट् इलाहाबाद, कुप्पुसामी रिसर्च इंस्टीटय़ूट् मद्रास)
  5. वेद के विविध पाठों (क्रमपाठ आदि) का सामान्य परिचय।

तृतीय यूनिट

  1. भारतीय एवं वैदेशिक विद्वानों के शोधकार्य और उनके प्रमुख क्षेत्र।
  2. गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय में वेद और संस्कृत में सम्पन्न शोध के प्रमुख क्षेत्र।
  3. गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय के विद्वानों के शोधकार्य और उनके प्रमुख क्षेत्र।
  4. संस्कृत साहित्य में शोध की भावी दिशा।

चतुर्थ यूनिट

  1. वैदिक साहित्य के अनुसन्धान पर दयानन्द का प्रभाव।
  2. संस्कृत साहित्य के अनुसन्धान पर दयानन्द का प्रभाव।
  3. आधुनिक चिन्तकों की विचारधारा का वेद और संस्कृत के शोधकार्यों पर प्रभाव।
  4. आधुनिक विद्वानों की शोधदृष्टि।

पञ्चम यूनिट

  1. वेद में प्रमुख शोधक्षेत्र (वेद, ब्राह्मण, आरण्यक आदि)।
  2. संस्कृत में प्रमुख शोधक्षेत्र (दर्शन, काव्य, नाटक, व्याकरण, योग, आयुर्वेद आदि)।
  3. संस्कृत शोध पर आधुनिक विषयों का प्रभाव (भाषाविज्ञान, समाजशास्त्र, राजनीतिशास्त्र, अर्थशास्त्र, मनोविज्ञान, पर्यावरणविज्ञान आदि)।

संस्तुत पुस्तक-सूची

1. अनुसन्धान का विवेचन डॉ.उदयभान सिंह
2. संस्कृत-शोध : वैदिक अध्ययन डॉ.कृष्णलाल
3. शोधप्रविधि डॉ.विनयमोहन शर्मा
4. शोधप्रक्रिया और विवरणिका डॉ.सावित्री सिन्हा एवं डॉ.विजयेन्द्रस्नातक
5. भारतीय पाठालोचन की भूमिका (हिन्दी अनुवाद) डॉ. एस.एम. कत्रे
6. पाठालोचन : सिद्धान्त और प्रक्रिया डॉ. मिथिलेश कत्रे
7. अनुसन्धान स्वरूप एवं प्रविधि डॉ. रामगोपाल शर्मा दिनेश
8. पाण्डुलिपि विज्ञान डॉ. रामगोपाल शर्मा दिनेश
9. अनुसन्धान के मूलतत्त्व      डॉ. उदयभान सिंह
10. Indological studies in India Raghavan
11. Review of Indological Reserach in last 75 years. Ed. P.G. Chinrnulgund and Dr. V.V.Mirashi


बी.एस-सी.
विषय- धर्म, दर्शन एवं संस्कृति

MM. 100
TIME : 3 Hrs

LTP 310

Sessional : 30

ESE : 70
Passing Marks : 40%

Note- Ten Question are to be set taking two questions from each unit. The Student has to attempt FIVE questions in all selecting one question from each unit. The previous year paper/model paper can be used as a guideline and the following syllabus should be strictly followed while setting the question paper.
Unit- Ist (धर्म)

  1. धर्म की अवधारणा।
  2. वैदिक, जैन, बौद्ध, इस्लाम तथा इसाई- इन मतों का विशेष परिचय।

Unit-IInd (दर्शन)

  1. भारतीय दर्शनों का सामान्य परिचय
  2. योग की परिभाषा तथा अष्टांगयोग।

Unit-IIIrd(संस्कृति)

  1. भारतीय संस्कृति (वर्णाश्रम-व्यवस्था एवं षोडश संस्कार)
  2. महर्षि दयानन्द की दृष्टि में शिक्षा का महत्त्व।

Unit-IVth (आर्यसमाज)

  1. आर्य समाज के प्रमुख सिद्धान्त (त्रैतवाद, पंचमहायज्ञ, कर्मफल-सिद्धान्त)
  2. प्रमुख आर्यसंन्यासियों एवं विद्वानों (स्वामी दयानन्द सरस्वती, स्वामी श्रद्धानन्द, पण्डित लेखराम, पण्डित गुरुदत्त विद्यार्थी और महात्मा हंसराज) का सामान्य परिचय।

 Unit-Vth (वैदिक साहित्य)

  1. वैदिक साहित्य का संक्षिप्त परिचय (संहिता, ब्राह्मण, आरण्यक, उपनिषद्)

Text Books/References

  1. धर्म, दर्शन एवं संस्कृति- एक समालोचनात्मक अध्ययन- वेदवाचस्पति प्रो. सत्यदेव निगमालंकार चतुर्वेदी, श्रद्धानन्द वैदिक शोध संस्थान, गु.कां.वि.वि. हरिद्वार।
  2. धर्मशास्त्र का इतिहास- प्रो. पी.वी.काणे
  3. सत्यार्थ प्रकाश- स्वामी दयानन्द सरस्वती
  4. वैदिक संस्कृति का स्वरूप- प्रो. रामविचार



Bachelor of Physical Education (B.P.Ed.)

Semester-II

धर्म, दर्शन एवं संस्कृति (D.D.S.) BPD-204

MM. 100
TIME : 3 Hrs
Sessional : 30

ESE :70
Passing Marks : 40%

Note- Paper setter is required to set 10 questions. Two questions from each unit. Candidate are required to attempt five questions in all by selecting one question from each unit. All question carry equal marks.
Unit- I

  1. वैदिक साहित्य का संक्षिप्त विवरण- संहितायें, ब्राह्मण, आरण्यक, उपनिषद्
  2. संगठन सूक्त- ऋग्वेद10/191

Unit-II

  1. यजुर्वेद के चालीसवें अध्याय का दार्शनिक, सामाजिक एवं आध्यात्मिक अध्ययन।

Unit-III

  1. वैदिक संस्कृति का स्वरूप- त्रैतवाद, पुनर्जन्म, कर्म सिद्धान्त, पुरुषार्थ चतुष्टय, पंचमहायज्ञ, वर्ण आश्रम व्यवस्था, सोलह संस्कार।

Unit-IV

  1. संध्या एवं यज्ञ का सामान्य परिचय।

 Unit-V

  1. आर्य समाज के नियम

Text Books/References

  1. धर्म, दर्शन एवं संस्कृति (डॉ. रूपकिशोर शास्त्री)
  2. पंच महायज्ञ एवं पर्व प्रदीप, श्रद्धानन्द प्रकाशन केन्द्र, गु.का.वि.वि. हरिद्वार
  3. आर्य समाज क्या है (महात्मा नारायण स्वामी)
  4. वैदिक संस्कृति का स्वरूप (प्रो. रामविचार)
(Since - 2005)

Exclusive Online Partner IndiaResults.com